Cover

अब अपराधियों के लिए असान नहीं रही चुनावी राह, जानिए चुनाव आयोग की नई Guideline

पटना। अब दागदार छवि वाले नेताओं के लिए विधानसभा तक पहुंचने की राह आसान नहीं होगी। चुनाव आयोग ने ऐसे प्रत्याशियों के लिए नियम और सख्त कर दिए हैं। प्रयास है कि जनता अधिक से अधिक बेदाग छवि वाले प्रत्याशियों का चयन करे और उन्हें सदन तक पहुंचा सके। आपराधिक छवि के लोगों पर सख्ती के इरादे से चुनाव आयोग ने नई गाइडलाइन जारी की है। नई गाइडलाइन के अनुसार अब प्रत्‍याशियों को अपने मुकदमों को जनता के समक्ष सार्वजनिक करना होगा।

तीन बार जनता को देनी होगी मुकदमों की जानकारी

चुनाव आयोग की गाइडलाइन में प्रावधान कर दिया गया है कि दागदार छवि वाले प्रत्याशियों को नामांकन पत्र में अपने अपराध संबंधी मुकदमों का ब्योरा देने के साथ ही कम से कम तीन बार यह जानकारी अखबारों में विज्ञापन प्रकाशित कर मतदाताओं को भी देनी होगी। विज्ञापन कब प्रकाशित करना है इसका निर्धारण चुनाव आयोग करेगा। अखबार में विज्ञापन प्रकाशित होने के अगले दिन संबंधित प्रत्याशी को उस अखबार की एक प्रति विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अफसर को देनी होगी, जिसमें उसका विज्ञापन होगा।

पूरी तरह पारदर्शी होगी चुनाव आयोग की नई व्यवस्था

राज्य के उप निर्वाचन पदाधिकारी बैजू नाथ कुमार सिंह ने बताया कि पूर्व में दागदार छवि वाले प्रत्याशियों को फॉर्म 26 के पारा पांच-छह में आपराधिक मामलों की जानकारी देनी होती थी। नई गाइडलाइन में यह व्यवस्था की गई है कि जिन प्रत्याशियों के खिलाफ मामले दर्ज हैं, उन्हें नामांकन के बाद नाम वापसी के चार दिनों के अंदर अपने ऊपर चल रहे या लंबित आपराधिक मामलों का पहला विज्ञापन विधानसभा क्षेत्र में प्रसारित अखबार में कराना होगा। दूसरी बार यही विज्ञापन नाम वापसी के पांचवे से आठवें दिन और तीसरी बार मतदान के ठीक एक दिन पहले समाचार पत्र में प्रकाशित कराना होगा। उन्होंने कहा कि आयोग का मानना है कि मतदाताओं को अपने प्रत्याशी के आपराधिक मामलों की जानकारी होगी तो वे सोच-समझकर मतदान करेंगे। साथ ही इस व्यवस्था के प्रभावी होने से सदन के अंदर साफ-सुथरी छवि वाले विजयी उम्मीदवार पहुंचेंगे। नई व्यवस्था पूरी तरह से पारदर्शी होगी और मतदाताओं को उम्मीदवार के बारे में हर प्रकार की जानकारी मिल सकेगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

कानपुर सेंट्रल पर मिले 1.40 करोड़ रुपये की दावेदारी में क्यों हुआ विलंब, विशेषज्ञों ने समझाया पूरा गणित     |     इनाम घोषित होने के बाद बाहुबली धनंजय सिंह पर कसेगा शिकंजा, करोड़ों की अवैध सम्पत्ति होगी जब्त     |     एक और रहस्य से उठा पर्दा, चेकिंग होती तो पहले दिन ही पकड़ा जाता विकास दुबे     |     प्रमुख सचिव समाज कल्याण बीएल मीणा के दुर्व्यवहार से आहत समाज कल्याण निदेशक बीमार, भर्ती     |     उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने ली कोरोना वायरस वैक्सीन की पहली डोज     |     सीएम योगी आदित्‍यनाथ ने गोरखपुर में सुनी जनता की फरियाद, समस्याओं के समाधान का दिया आश्‍वासन     |     दहेज में कार नहीं देने पर परिवार ने महिला को पीटकर घर से निकाला, पांच पर दर्ज किया मुकदमा     |     आनंद अखाड़े की अलग से होगी पेशवाई, किसी अखाड़ों के संत-महात्मा हो सकते हैं शामिल- नरेंद्र गिरि     |     उत्‍तराखंड में स्वास्थ्य के मोर्चे पर दिख रही नई उम्मीद, बुनियादी ढांचे को सुदृढ़ करने पर जोर     |     चुनावी साल में योजनाओं पर दिल खोलकर खर्च करेगी सरकार     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890