Cover

सरकारी खरीद में जैसे को तैसा नियम लागू, भारतीय कंपनियों को मिलेगी प्राथमिकता, चीन को झटका

नई दिल्ली। आत्मनिर्भर भारत के तहत सरकारी खरीद में भारतीय कंपनियों को प्राथमिकता देने के लिए सरकार ने खरीद नियम में संशोधन किया है। इसके तहत अब सरकारी खरीद के टेंडर में उन्हीं विदेशी कंपनियों को हिस्सा लेने का मौका मिलेगा जिन देशों की सरकारी खरीदारी में भारतीय कंपनियों को सप्लाई देने का मौका मिलता है।

इस नियम के लागू होने से चीन जैसे देश जो अपने यहां सरकारी विभाग की खरीदारी में शामिल होने के लिए भारतीय कंपनियों को इजाजत नहीं देते हैं, भारत की सरकारी खरीद टेंडर में हिस्सा नहीं ले पाएंगे।

यह नियम सभी सरकारी विभाग और मंत्रालयों के लिए लागू माना जाएगा। डीपीआईआईटी की तरफ से जारी सूचना के मुताबिक भारतीय कंपनियों को सरकारी खरीद में हिस्सा लेने से रोकने वाले देश की कंपनियां सिर्फ उन्हीं आइटम की सरकारी खरीद में हिस्सा ले सकेंगी जिनकी सूची सरकार प्रकाशित करेगी।

नए संशोधित नियम के तहत सालाना 1000 करोड़ से अधिक की खरीदारी करने वाले विभाग और मंत्रालयों को आगे की पांच साल की खरीदारी का अनुमान अपनी वेबसाइट पर जारी करना होगा।

नए नियम के तहत सरकारी कंपनियों को स्थानीय आपूर्ति की सीमा को भी बढ़ाना होगा। नए नियम के मुताबिक सरकारी खरीद में अगर कोई विदेशी कंपनी भारतीय कंपनी के साथ साझेदारी करके हिस्सा लेना चाहती है तो उसके बारे में सरकार अधिसूचना जारी करेगी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

साढ़े ग्यारह माह बाद एक्सप्रेस बनकर दौड़ी पैसेंजर ट्रेन     |     मछुआरा समाज को राजनीति में उतारेगी निषाद पार्टी     |     शहीद पार्क में टिकट के नाम पर मनमानी     |     हैनी ट्रैप में लोगों को फंसाने वाली शाहजहांपुर की युवती गिरफ्तार     |     एसपी ने सिल्वर स्टार लगाया, पुलिस उपाधीक्षक बने विजयराज सिंह     |     राज्य स्तरीय टीम ने सलेमपुर सीएचसी का किया वर्चुअल निरीक्षण     |     रिद्धि-सिद्धि विधान से समाज के सभी लोगों को मिलता है लाभ     |     लखनऊ में युवतियों ने बीच सड़क शोहदों को सिखाया सबक, चलती बाइक से खींचकर बरसाए सैंडल-थप्‍पड़     |     लखनऊ में रिटायर्ड इंस्पेक्टर समेत दो की कार में लगी भीषण आग, कोई हताहत नहीं     |     UP डिप्टी सीएम डॉ.दिनेश शर्मा ने कहा- अयोध्या में खुलेगा श्रीराम विश्वविद्यालय, होगा विभिन्न रामायणों पर शोध     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890