Cover

भारत ने खोली चीन के झूठे दावे की पोल, बौखलाए ड्रैगन ने अब लगाया यह आरोप

नई दिल्ली। पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर भारत और चीन के बीच जारी तनाव को लेकर भारतीय सेना का बयान आया है। सेना ने चीन के झूठे दावे की पोल खोलते हुए कहा है कि पीएलए के जवानों ने उकसावे की कार्रवाई की है। हमने न तो लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल को पार किया और न ही हमने चीन की तरफ कोई फायरिंग की। तनाव कम करने के लिए सैन्य, कूटनीतिक और राजनीतिक स्तर पर दोनों देशों के बीच हो रही बातचीत के बाद भी चीन लगातार समझौते का उल्लंघन कर रहा है।

भारतीय सेना ने चीन के आरोपों को खारिज करते हुए कि भारत एलएसी पर डिसइंगेजमेंट और हालात को डी-एस्केलेट करने के लिए प्रतिबद्ध है। वहीं, चीन स्थिति को बढ़ाने के लिए उकसावे वाली ​गतिविधियों को जारी ​रखे हुए है। किसी भी चरण में भारतीय सेना ने एलएसी को पार नहीं किया और फायरिंग समेत किसी भी आक्रामक तरीके का इस्तेमाल नहीं किया।

ना ने पूरी घटना पर प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि 7 सितंबर को पीएलए के जवानों ने एलएसी से लगी हुई हमारी एक फॉरवर्ड पोजीशन के करीब आने की कोशिश की। जब हमारे जवानों ने इसका जवाब दिया तो चीन की सेना ने हमारे जवानों को धमकी देने के अंदाज में हवाई फायरिंग की। हालांकि, इस गंभीर उकसावे के बावजूद हमारी सेना ने जिम्मेदार और परिपक्व तरीके से मौके को संभाला।

चीन ने फिर अलापा पुरना राग

भारत की तरफ से चीर के आरोपों को पूरी तरह से खारिज किए जाने के बाद चीन ने फिर अपना पुराना राग अलापा है। चीन के विदेश मंत्रालय ने कहा है कि 7 सितंबर को भारतीय सैनिकों ने अवैध तरीके से एलएसी पार की और पैंगोंग त्सो के दक्षिणी किनारे पर पहुंच गए। चीनी विदेश मंत्रालय ने अपने आरोप में यह भी कहा कि भारतीय सैनिकों ने पैट्रोलिंग कर रहे हमारे सैनिकों पर फायरिंग की। 1975 से ये पहली बार है जब फा​यरिंग की वजह से शांति बाधित हुई है। हमने हमेशा इस बात पर जोर दिया है कि दोनों पक्षों को शांतिपूर्ण तरीके से बातचीत के जरिए अपने मतभेदों को सुलझाना चाहिए।

साल बाद फायरिंग की घटना

भारत-चीन सीमा पर पिछली बार 1975 में गोलियां चली थीं। उस समय अरुणाचल प्रदेश के तुलुंग ला में असम राइफल्स के जवानों की पैट्रोलिंग टीम पर हमला हुआ था, जिसमें कई जवान शहीद हुए थे। 1993 में भारत और चीन के बीच एक समझौता हुआ था, जिसमें सहमति बनी थी दोनों देश सीमा पर किसी भी हाल में फायरिंग नहीं करेंगे।

पहले भी कर चुका है उकसावे वाली कार्रवाई

हाल के महीनों में चीनी सेना कई बार उकसावे वाली कार्वाई कर चुकी है। 29 और 30 अगस्त को चीनी सैनिकों ने पैंगोंग झील के दक्षिण तट पर घुसपैठ की कोशिश की थी। जिसे भारतीय जवानों ने पूरी तरह से नाकाम कर दिया। इससे पहले 15 जून को गलवन घाटी में भी दोनों देशों के सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई थी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

Shabnam Ali की फांसी को लेकर निर्भया के दोषियों के वकील एपी सिंह ने दिया सबसे अलग बयान     |     RLD सुप्रीमो अजित सिंह ने भाजपा सरकार पर साधा निशाना, बोले- कुछ भी कर लो, नहीं रुकेगा विरोध     |     अखिलेश को भाया केमिकल इंजीनियर का इटावा पर रैप, अब सपा पर बनवाएंगे एलबम     |     यूपी में कोरोना से संक्रमित 108 नए रोगी मिले, सीएम योगी का निर्देश- संकट अभी टला नहीं, बरतें सर्तकता     |     यूपी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा- विधायक मुख्तार अंसारी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध     |     उत्तराखंड भाजपा का चिंतन शिविर 12 मार्च से दून में, विधानसभा चुनाव की रणनीति पर होगा मंथन     |     मासूम से छेड़छाड़ पर युवक को पांच साल की कैद     |     केंद्र को सौंपा चौखुटिया में हवाई पट्टी का प्रस्ताव, गैरसैंण तक पहुंच होगी आसान     |     उत्तराखंड: महिला अधिकारी ने शासन के अधिकारी पर लगाए आरोप, पत्र भेजकर की कार्यवाही की मांग     |     उत्तराखंड पुलिस के आतंकवादी रोधी दस्ते में शामिल हुईं 22 महिला कमांडो, शिफूजी शौर्य भारद्वाज ने दिया प्रशिक्षण     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890