Cover

अब देशभर में 150 और हरियाणा-पंजाब में 18 प्राइवेट ट्रेनें दौड़ेंगी, जानें किन रूटों पर चलेंगी

अंबाला। देश और पंजाब- हरियाणा में जल्‍द ही व्‍यापक स्‍तर पर प्राइेवट ट्रेनें चलेंगी। इनमें कई खासियतें होंगी। भारतीय रेल ने 109 रूटों पर चलने वाली 150 प्राइवेट ट्रेनों का रूट तैयार कर देशभर के अधिकारियों से सुझाव मांगे हैं। रेल मंत्रालय ने लिखित आदेश और फिर वीडियो कान्फ्रेंस के माध्यम से प्राइवेट ट्रेनों के संचालन, संरक्षा, वाशिेग और जिन रूटों पर दौड़ेंगी वहां पर पहले या उस समय कौन सी ट्रेन चल रही है, इसकी टाइमिंग को लेकर सुझाव मांगे हैं।

31 जुलाई को देश भर के अधिकारियों को जारी किए गए दिशा-निर्देश, 109 रूटों पर दौडऩी हैं 150 ट्रेनें

इन खास ट्रेनों के पटरी पर उतरने के बाद मौजूदा समय में चल रहे ट्रेनों के टाइम टेबल में बदलाव होगा। हरियाणा और पंजाब से भी 18 रूटों पर ये टे्रेनें दौड़ेंगी। इनमें दैनिक और साप्ताहिक ट्रेन भी शामिल हैं। इस संबंध में अधिकारियों को 7 अगस्त तक अपने सुझाव रेल मंत्रालय को भेजने हैं।

हरियाणा व पंजाब से 18 रूट पर विभिन्न राज्यों के लिए दौड़ेंगी स्पेशल ट्रेनें

इन प्राइवेट ट्रेनों में नई दिल्ली से अमृतसर दो ट्रेन, नई दिल्ली से चंडीगढ़ तीन ट्रेन, लखनऊ से कटरा के लिए दो ट्रेन, अमृतसर से फरीदाबाद दो ट्रेन, वाराणसी से बठिंडा दो ट्रेन,  नागपुर से चंडीगढ़ दो ट्रेन, भोपाल से मुंबई दो ट्रेन, भोपाल से पूना दो ट्रेन शामिल हैं। इसके अलावा नई दिल्ली से ऋषिकेश दो ट्रेन, इंदौर से दिल्ली दो ट्रेन, नई दिल्ली से वाराणसी दो ट्रेन, आनंद विहार से दरभंगा दो ट्रेन, आनंद विहार से बडग़ाम तक दो ट्रेन, लखनऊ से दिल्ली दो ट्रेन आदि शामिल हैं।

इन 150 ट्रेनों से देश के सभी प्रमुख स्टेशनों को जोड़ दिया गया है। इन ट्रेनों की स्पीड 160 किलोमीटर प्रति घंटा की होगी। इसलिए रेल अधिकारियों से पूछा गया है कि वह अपने सेक्शनों में टाइम जांच लें। हर सात हजार किलोमीटर पर इन ट्रेनों की संरक्षा को देखते हुए जांच की जाएगी। प्रत्येक ट्रेन में 16 डिब्बे या इससे अधिक होंगे ताकि यात्रियों को टिकट कंफर्म मिल सके।

मेक इन इंडिया नीति के तहत बनाए जाएंगे ट्रेन के डिब्बे

रेलवे ने प्राइवेट ट्रेनों के लिए रूट प्रस्तावित कर दिए हैं। ट्रेनों को चलाने के लिए प्राइवेट कंपनियों को आमंत्रित किया जा चुका है। इन सभी ट्रेनों के डिब्बे मेक इन इंडिया की नीतियों के तहत ही बनाए जाएंगे। इन ट्रेनों को दौड़ाने की जिम्मेदारी रेलवे के चालक की होगी।

इसके अलावा गार्ड भी रेलवे का ही होगा। ट्रेन संचालन की व्यवस्था, टिकट जांच और खानपान भी कंपनियों के जिम्मे होगा। रेलवे ने जिन रूटों पर यात्रियों की संख्या अधिक है और वेटिंग टिकट ही मिलता है वहां इन ट्रेनों को दौड़ाने का फैसला लिया है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.

चार गुना बढ़े किराए के साथ एक्सप्रेस बनकर चलने के लिए तैयार हुईं पैसेंजर ट्रेनें     |     सीरियल दुष्कर्मी हर महीने 3 महिलाओं से करता था दुष्कर्म, एसओ करते कार्रवाई तो बच जाती 2 महिलाएं     |     BJP सांसद के बेटे ने गढ़ी झूठ कहानी, बाइक सवारों ने नहीं बल्कि साले से खुद मरवाई थी गोली     |     बहन के प्रेमी को फंसाने के लिए भाई ने चली थी ये खौफनाक चाल, ऐसे हुआ खुलासा     |     जमीनी विवाद में सपा नेता की गोली मारकर हत्या, बेटे ने SDM पर लगाए ये गंभीर आरोप     |     खतरे में नैनीताल व अल्मोड़ा जनपद को जोड़ने वाला ब्रिज, रैंप पर मिट्टी बिछाकर हो रही आवाजाही     |     कोविन पोर्टल की सुस्ती के बाद भी बढ़ा टीकाकरण का ग्राफ, तीन गुना अधिक लोगों को लगा टीका     |     जाली दस्तावेजों पर उत्तराखंड, सिक्किम और हिमाचल से पाकिस्तान के साथ अन्य देश भेजे गए थे व्यक्ति, ऐसे खुला मामला     |     कुंभ में 18 हजार क्षमता के शेल्टर बनेंगे, एसओपी और राज्य सरकार की कार्यवाही पर लगी मुहर     |     उत्तराखंड के सभी शहरी निकायों में सर्किल रेट के आधार पर संपत्ति कर, दो विधेयकों को मंजूरी     |    

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- 1234567890